Watery Semen Causes, Symptoms And Treatment

वाटरी सीमेन (Watery semen) एक पुरुष प्रजनन अंग से सम्बंधित समस्या या बीमारी है इस स्थिति में वीर्य में कम मात्रा में शुक्राणु उपस्थित होते हैं और वीर्य पानी की तरह पतला होता है।

वीर्य, स्खलन के दौरान पुरुष मूत्रमार्ग के माध्यम से निकलने वाला सफ़ेद, गाढ़ा द्रव होता है। यह प्रोस्टेट ग्रंथि और अन्य पुरुष प्रजनन अंगों से शुक्राणु और तरल पदार्थ के परिवहन का कार्य करता है। हालांकि, अनेक स्थितियां वीर्य के रंग और गाढ़ेपन में बदलाव कर सकती हैं।

sperm-cell-istock-adult sex toys india

पानी जैसे पतले वीर्य की स्थिति अधिकांशतः अस्थायी होती है, और अपने आप दूर हो सकती है। पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) कम शुक्राणुओं की संख्या (low sperm count) का संकेत हो सकता है, जो कि संभावित प्रजनन समस्याओं का एक संकेत है। पतला, स्पष्ट वीर्य स्खलन एक अस्थायी और जोखिम रहित स्वास्थ्य स्थिति का संकेत हो सकता है। अतः शुक्राणुओं की संख्या कम होने, जीवनशैली सम्बन्धी कारकों और पोषण संबंधी कमियों के कारण से भी पानी जैसे पतले वीर्य का उत्पादन हो सकता है।

पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) के अनेक संभावित कारण हो सकते हैं। जिनमें से अधिकांश कारण को उपचार द्वारा दूर किया जा सकता है। कम शुक्राणुओं की संख्या, धूम्रपान, नशीली दवाओं का का सेवन, तनाव, हार्मोनल असंतुलन, फ्रुक्टोज की कमी और असंतुलित आहार का सेवन आदि सभी पतले और पानी जैसे वीर्य के कुछ सामान्य कारण हो सकते हैं

पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) के सबसे सामान्य कारणों में शुक्राणु की कमी (लो स्पर्म काउंट) को शामिल किया जाता है। इसे ओलिगोस्पर्मिया (oligospermia) के नाम से भी जाना जाता है। लो स्पर्म काउंट का मतलब वीर्य में सामान्य से कम मात्रा में शुक्राणु के पाए जाने से होता है। वीर्य (semen) के प्रति मिलीलीटर में 15 मिलियन से कम शुक्राणु  उपस्थिति को लो स्पर्म काउंट (ऑलिगॉस्पर्मिया) कहा जाता है।

कम शुक्राणुओं की संख्या (ऑलिगॉस्पर्मिया) के कुछ संभावित कारणों में निम्न को शामिल किया जाता है:

  • वैरीकोसेल (Varicocele)- अंडकोष (testicles) की नसों में सूजन।
  • संक्रमण(Infection) – जैसे गोनोरिया (Gonorrhea), क्लैमाइडिया।
  • अंडकोष ट्यूमर(testicles Tumors)
  • हार्मोन का असंतुलन (Hormone imbalances)
  • स्खलन समस्याएं, जैसे कि रेट्रोग्रेड एजाकुलेशन (retrograde ejaculation)

बार-बार स्खलन (Frequent ejaculation) से भी वीर्य का उत्पादन कम हो सकता है। यदि कोई व्यक्ति  दिन में कई बार हस्तमैथुन करता है, तो पहले स्खलन के बाद वीर्य पतला और पानीदार हो जाता है। क्योंकि शरीर को वीर्य की सामान्य, स्वस्थ मात्रा का उत्पादन करने के लिए कुछ घंटों की आवश्यकता होती है। चूँकि यह स्थिति घातक नहीं है तथा इसके लिए किसी भी प्रकार के चिकित्सकीय उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। अतः यह पानी जैसे वीर्य का अस्थाई कारण है।

यदि किसी व्यक्ति का वीर्य पानी जैसा दिखाई देता है, तो वीर्य के रंग और स्पष्टता पर ध्यान देना चाहिए। वास्तव में बहुत स्पष्ट वीर्य, पूर्व स्खलन तरल पदार्थ (pre-ejaculation fluid) हो सकता है, जो फोरप्ले (foreplay) के दौरान निकलता है। अतः पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) का कारण पूर्व स्खलन तरल पदार्थ का उत्पादन हो सकता है।

Watery semen Treatment

कम शुक्राणुओं की संख्या के कारण होने वाले वाटरी सीमेन (Watery semen) के लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। चूँकि कम शुक्राणुओं की संख्या (Low semen count) होने का मतलब यह नहीं होता है, कि सम्बंधित पुरुष गर्भधारण नहीं करा सकता है। इसके अतिरिक्त कुछ संक्रमण की स्थिति भी अस्थायी रूप से कम शुक्राणुओं की संख्या का कारण बन सकती है।

यदि पानी जैसे पतले वीर्य के कारणों में संक्रमण का निदान किया जाता है, तो संक्रमण के उपचार में एंटीबायोटिक थेरेपी (antibiotic therapy) को शामिल किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त हार्मोन असंतुलन की स्थिति में हार्मोन थेरेपी द्वारा कम शुक्राणुओं की संख्या का इलाज किया जा सकता है।

यदि पानी जैसे पतले वीर्य की स्थिति में वैरीकोसेल (Varicocele) का निदान किया जाता है, तो इसके सफल इलाज के लिए सर्जरी जैसे- लेप्रोस्कोपिक सर्जरी, पर्क्यूटेनियस एम्बोलिज़ेशन (Percutaneous embolization) आदि की सिफारिश की जा सकती है।

Watery semen Home Treatment

कुछ मामलों में, जीवनशैली में परिवर्तन कर शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाया जा सकता है, तथा पानी जैसे पतले वीर्य (Watery semen) की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके तहत निम्न घरेलू उपाय अपनाए जा सकते हैं, जैसे:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu