रोज स्पर्म रिलीज करना अच्छा है या बुरा

मास्टरबेशन भी सेक्स की ही तरह एक सेक्सुअल एक्टिविटी है जिसमें व्यक्ति अपने प्राइवेट पार्ट को यौन सुख देने और स्पर्म रिलीज करने के लिए उत्तेजित करता है। यह महिलाओं और पुरुषों दोनों में आम है। शोध के अनुसार, 14 से 17 वर्ष (लगभग 74% लड़के और 48% लड़कियां) मास्टरबेट करते हैं। वहीं, 57 से 64 की उम्र के पुरुषों में लगभग 63% और 32% महिलाएँ ऐसा करती हैं। लोग मास्टरबेट करके खुशी प्राप्त करते हैं और साथ ही तनाव को दूर करते हैं।

लेकिन इन सब बातों के बीच एक बात जो सभी के मन में आती है वह है क्या रोज वीर्य को बर्बाद करना सही है या गलत? (Wasting sperm is good or bad in Hindi) हममे से ज्यादातर लोग स्खलन के बाद वीर्य के बारे में सोचने लगते हैं की इसको हमने बर्वाद कर दिया लेकिन इसमें कितनी सच्चाई है। रोज स्पर्म रिलीज करने के फायदे भी होते हैं जो सायद आपने अभी तक न पढ़ें हो जैसे रोज सेक्स करने के फायदे होते हैं वैसे ही रोज वीर्य या शुक्राणु को शरीर से बाहर करने के भी लाभ है 

कई लोग मानते हैं कि रोजाना मास्टरबेट करने से आंखें कमजोर हो सकती हैं, हथेली पर बाल आ सकते हैं, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, स्तंभन दोष, लिंग में संकुचन आदि हो सकते हैं। लोग यह भी सोचते हैं कि अधिक मास्टरबेट करने से वीर्य की मात्रा कम हो जाती है। मास्टरबेशन से जुड़ा सबसे बड़ा झूठ यह है कि इससे बांझपन होता है। यह भी कहा जाता है कि पुरुष मास्टरबेट कर सकते हैं लेकिन महिलाएं नहीं। पीरियड्स के दौरान महिलाओं को मास्टरबेट करना अस्वस्थ माना जाता है और यह भी एक झूठ ही है।

रोजाना मास्टरबेशन करने से आपको ये फायदे होते हैं

प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम हो जाता है। टेंशन और तनाव को दूर करने में मदद करता है। वैजाइना की ड्राईनेस कम हो जाती है और सेक्स के दौरान दर्द कम हो जाता है, खासकर यह लाभ अधिक उम्र की महिलाओं में अधिक देखा जाता है।

मास्टरबेशन एक स्वस्थ काम है

कुछ लोगों को मास्टरबेशन के बारे में बुरा लग सकता है। ऐसा करने के लिए वे दोषी महसूस करते हैं। लेकिन मास्टरबेशन एक सामान्य और स्वस्थ काम है। ऐसा कुछ भी नहीं है जिसके बारे में आपको दोषी महसूस करना चाहिए। रोजाना मास्टरबेशन करने से न तो आंखों की रोशनी कम होती है और न ही कोई मानसिक समस्या पैदा होती है। लेकिन किसी भी चीज की अति भी बहुत गलत होती है। आप अपनी ऊर्जा को किसी भी खेल या शौक की ओर मोड़ सकते हैं ताकि उनके बीच संतुलन बना रहे और आप एक स्वस्थ और खुशहाल जीवन जी सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu