सेक्स से जुड़ी सभी भ्रातिंयों को कर लें दूर

आम तौर पर संभोग से विरत रहने का अर्थ, यौन संभोग, यानी योनि में लिंग को प्रवेश करने वाला सेक्स न करना है। आप बिना यौन-संभोग किए भी यौन आनंद और नज़दीकी बनाए रख सकते हैं।

उदाहरण के तौर पर अपने साथी के साथ चुंबन, हस्तमैथुन, छेड़छाड़, हल्के से या ज़ोर से सहला कर, कल्पनाएं कर, सेक्स खिलौनों का प्रयोग कर, मुख मैथुन या गुदा मैथुन कर यौन आनंद का अनुभव ले सकते हैं।

खूबियाँ और खामियाँ
खूबियाँ: इसे कभी भी बंद कर सकते हैं और आसानी से इसे पलटा जा सकता है, किसी डाक्टर या स्वास्थ्य कर्मी की ज़रूरत नहीं होती, किसी नुस्खे की ज़रूरत नहीं होती। यह मुफ़्त है और गर्भधारण से बचने के लिए 100 प्रतिशत प्रभावी है।

खामियाँ: गर्भधारण और यौनसंचारित रोगों से बचने के लिए आपको इसे 100 प्रतिशत अपनाना होता है, प्रभावी होने तथा संभोग से विरत रहने में होने वाली कठिनाइयों के कारण अनचाहे गर्भधारण की उच्च दर से बचने के लिए आप और आपके साथी, दोनों को इसके लिए राज़ी होना चाहिए।

कुछ लोग कहते हैं कि संभोग से विरत रहने का अर्थ, अपने साथी के साथ यौन-संभोग या कोई यौन छेड़छाड़ भी नहीं करना है। उनके द्वारा संभोग से विरत रहना कहने का यही अर्थ होता है।

दूसरे लोगों का कहना है कि संभोग से विरत रहने का अर्थ, अपने साथी के साथ यौन-संभोग नहीं करना है किंतु दूसरे तरह की यौन क्रिया, जैसे कि मुख मैथुन या गुदा मैथुन किया जा सकता है जिससे गर्भधारण नहीं होता।

इसमें दूसरे तरह की यौन क्रिया़ भी शामिल हो सकती है, जैसे कि चुंबन लेना, हस्तमैथुन करना या सेक्स खिलौनों का प्रयोग करना।

कुछ दूसरे लोग कह सकते हैं कि संभोग से विरत रहने का मतलब है महिला के साथ उस समय संभोग न करना जब वह गर्भवती हो सकती है (उनके डिंब उत्पन्न होने के दौरान)।

कुछ सवाल और उनके जवाब

संभोग से विरत रहने से गर्भधारण से कैसे बचाव होता है?
शुक्राणु को योनि में प्रवेश करने से रोककर यह गर्भधारण से बचाता है।

गर्भधारण से बचने के लिए मुझे कब-कब संभोग से विरत रहना होगा?
गर्भधारण से बचने के लिए आपको हर रोज़ संभोग से विरत रहना होता है।

गर्भधारण से बचने के लिए संभोग से विरत रहना कितना प्रभावी है?
यदि आप पूरी तरह संभोग से विरत रहते हैं, अर्थात् 100 प्रतिशत समय आप किसी भी प्रकार संभोग या यौन छेड़छाड़ नहीं करतीं तो आप गर्भवती नहीं होंगी।

लगातार संभोग से विरत रहना काफी कठिन होता है, इसलिए आम तौर पर इसमें लोग एक या दो बार विफल हो जाते हैं। अनुसंधान से पता चलता है कि जो युवतियां संभोग से विरत रहती हैं, उन्हें गर्भधारण और यौनसंचारित रोग लगने की संभावना उन युवतियों से अधिक होती है।

जो दूसरे गर्भनिरोधक उपायों का प्रयोग करती हैं। इसका कारण यह है कि जो संभोग से विरत रहती हैं, उनके संभोग के लिए तैयार रहने तथा यौनसंचारित रोगों से सुरक्षा उपाय करने की संभावना कम होती है।

संभोग से विरत रहना कितना सुरक्षित है?
संभोग से विरत रहने के कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं हैं, इसलिए यह गर्भनिरोध का सबसे सुरक्षित तरीका है।

क्या इसके लिए किसी डाक्टरी नुस्खे की ज़रूरत होती है?
नहीं

कीमत कितनी हैं?
कुछ नहीं, यह मुफ्त है!

क्या आसानी से उपलब्ध है?
जी हाँ। संभोग से विरत रहने में केवल एक ही समस्या है, कि आप और आपके साथी दोनों को इसके लिए राज़ी होना चाहिए।

संभोग से विरत रहने का चुनाव करने के कई कारण हैं?
गर्भधारण से रोकथाम
यौनसंचारित रोगों से रोकथाम
सही साथी मिलने का इंतज़ार
स्कूल या अपने करियर पर ध्यान केंद्रित करना
व्यक्तिगत, नैतिक या धार्मिक मान्यताओं के कारण
जब आप अपने साथी से अलग हो गए हों
किसी बीमारी या संक्रमण से स्वास्थ्य लाभ करना

सेक्स में सक्रिय रहना आनंददायी होता है, लेकिन इसके साथ जि़म्मेदारियां भी जुड़ी होती हैं। आप इसके साथ जुड़े जोखिमों के कारण यौनिक रूप से सक्रिय और जि़म्मेदारी के लिए तैयार नहीं हो सकते हैं। इसलिए जब तक आप उन ज़ोखिमों को उठाने लायक नहीं हो जाते, संभोग से विरत रहना इन ज़ोखिमों से बचने का अच्छा तरीका हो सकता है।

अनुसंधान से पता चलता है कि जो महिलाएं 20-30 वर्ष की उम्र तक संभोग से विरत रहती हैं या जिनके पूरे जीवन काल में यौन साथी कम होते हैं उनका स्वास्थ्य, ऐसा न करने वाली महिलाओं से निश्चित तौर पर अच्छा रहता है। युवतियों में यौनसंचारित रोग होने की संभावना कम होती है, इसलिए उनके संतान पैदा न कर पाने या गर्भग्रीवा का (सर्वाइकल ) कैंसर होने की संभावना कम होती है।

यौनसंचारित रोगों से सुरक्षा?
हाँ। यदि आप लगातार संभोग करने से बचते हैं, अर्थात् 100 प्रतिशत समय आप संभोग या किसी प्रकार की सेक्स से पहले की जाने वाली छेड़छाड़ नहीं करते हैं, तो आपको यौनसंचारित रोग लगने की संभावना नहीं होती है।

फायदे?

सेक्स में सक्रिय रहना आनंददायी होता है, लेकिन इसके साथ जि़म्मेदारियां भी जुड़ी होती हैं। आप इसके साथ जुड़े जोखिमों के कारण यौनिक रूप से सक्रिय और जि़म्मेदारी के लिए तैयार नहीं हो सकते हैं। इसलिए जब तक आप उन ज़ोखिमों को उठाने लायक नहीं हो जाते, संभोग से विरत रहना इन ज़ोखिमों से बचने का अच्छा तरीका हो सकता है।

अनुसंधान से पता चलता है कि जो महिलाएं 20-30 वर्ष की उम्र तक संभोग से विरत रहती हैं या जिनके पूरे जीवन काल में यौन साथी कम होते हैं उनका स्वास्थ्य, ऐसा न करने वाली महिलाओं से निश्चित तौर पर अच्छा रहता है। युवतियों में यौनसंचारित रोग होने की संभावना कम होती है, इसलिए उनके संतान पैदा न कर पाने या गर्भग्रीवा का (सर्वाइकल ) कैंसर होने की संभावना कम होती है।

यौनसंचारित रोगों से सुरक्षा?
हाँ। यदि आप लगातार संभोग करने से बचते हैं, अर्थात् 100 प्रतिशत समय आप संभोग या किसी प्रकार की सेक्स से पहले की जाने वाली छेड़छाड़ नहीं करते हैं, तो आपको यौनसंचारित रोग लगने की संभावना नहीं होती है।

नुकसान?

बहुत दिनों तक संभोग से विरत रहना कठिन होता है। इसलिए अनुसंधान से पता चलता है कि कई लोग संभोग से विरत रहने की अवधि में गर्भधारण या यौनसंचारित रोगों का कोई उपाय किए बिना संभोग कर सकते हैं। इससे संभोग से विरत रहने वाले लोगों को अनचाहे गर्भधारण और यौनसंचारित रोग लगने की संभावना अधिक बढ़ जाती है।

मैं अपने साथी से संभोग से विरत रहने के बारे में कैसे बात करुँ?
संभोग से विरत रहने में सफल होने के लिए बातचीत करना महत्वपूर्ण है। आप और आपके साथी, दोनों को गर्भनिरोधन की विधि को अपनाने के लिए राज़ी होना ज़रूरी है। आप और आपके साथी को एक दूसरे के प्रति ईमानदार रहना होगा और साथ मिलकर यौनिक फैसले लेने होंगे।

यौनिक क्रिया शुरू करने से पहले अच्छा होगा यदि आप साथ मिलकर संभोग से विरत रहने के बारे में बात कर लें। नज़दीकीयां बढ़ाने के लिए यौन क्रिया ही ज़रूरी नहीं होतीं। दंपति आपस में भरोसा बढ़ाने के लिए आपस में बातचीत कर, सकते हैं, एक-दूसरे की बातों को सुन सकते हैं, अपने अनुभव साझा कर सकते हैं, एक-दूसरे के प्रति ईमानदार रहकर एक-दूसरे का आदर-सम्मान कर सकते हैं तथा एक-दूसरे के साथ का आंनद उठाने के लिए दूसरे तरीके भी तलाश सकते हैं।

1. इस बात पर विचार करें कि आप संभोग से विरत रहने के बारे में कैसे कह सकते हैं। आप इस बारे में स्पष्ट तरीके से कैसे अपनी बात समझा सकते हैं? किन शब्दों (क्या कह कर) या बर्तावों से यह समझाया जा सकता है। इन शब्दों या बर्ताव का अभ्यास कर सकते हैं और इस बात पर भी विचार करें कि ऐसा करने पर दूसरे की प्रतिक्रिया कैसी हो सकती है।

2. उन कारणों पर विचार करें कि आप क्यों संभोग से विरत रहना चाहते हैं, और आपके लिए संभोग से विरत रहने के क्या मायने है। अपने साथी से संभोग से विरत रहने के बारे में अपनी बात और भावनाओं को व्यक्त करें और अपने साथी को भी ऐसा करने के लिए कहें।

3. अपनी सीमाओं को अच्छी तरह जान-समझ लें। चुंबन? थपकी? छेड़छाड़? हस्तमैथुन? या सेक्स खिलौनों का प्रयोग?
ध्यान रहे, संभोग से विरत रहना तभी कारगर होता है जब दोनों साथी इसके लिए राज़ी हों। आपके संबंधों में बदलाव आ सकता है। और यदि आपका संभोग से विरत रहने के बारे में फैसला बदल भी जाता है तो कोई बात नहीं है। दोनों ही स्थितियों में आपको दूसरे गर्भनिरोधक उपायों की जानकारी होना ज़रूरी है, जिससे समय आने पर आप इसके लिए तैयार हों!

संभोग से विरत रहने का चुनाव आपको रोज़ करना होता है। यह कठिन हो सकता है। इसलिए यह जानना ज़रूरी है कि आप संभोग से क्यों विरत रहना चाहते हैं।

इन प्रश्नों का उत्तर जानकर आपको संभोग से विरत रहने के चुनाव में सहायता मिल सकती हैः
1. हम सेक्स से क्यों विरत रहना चाहते हैं?
2. संभोग से विरत रहने से मुझे क्या फायदे हैं?
3. ऐसी कौन-सी परिस्थितियां हैं जो मुझे संभोग से विरत रहना कठिन बना देती हैं? क्या इन कठिन परिस्थितियों से बचने के कोई उपाय हैं?
4. चूंकि मुझे पता है कि शराब या नशीले पदार्थों के सेवन से संभोग से विरत रहना कठिन हो सकता है, अतः उनका प्रयोग न करने के बारे में मुझे कैसा लगता है? क्या यह वास्तविक है?
5. क्या मेरे ऐसे सहयोगी हैं जिनसे मैं संभोग से विरत रहने के अपने निर्णय के बारे में बात कर सकूँ?

मैं संभोग से विरत रहना कैसे बंद करुँ?
यह आसान है। आप जब चाहें संभोग से विरत रहना बंद कर सकते हैं। हालांकि, इसके लिए यह ज़रूरी है कि आपको दूसरे गर्भनिरोधक उपायों की जानकारी हो।

सुनिश्चित कर लें कि आपको दूसरे गर्भनिरोधक उपायों की जानकारी है, आपको ये उपलब्ध हैं, और यौनसंचारित रोगों से अपने को कैसे बचाएं, यह भी पता है। इस मामले में कंडोम अच्छे विकल्प हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu