Penis Itches Causes, Treatments and home remedies

लिंग पर खुजली (Penis Itches) की समस्या वर्तमान में पुरुषों से संबंधित एक बहुत आम समस्या है, जो संबंधित व्यक्ति के लिए शर्मनाक और असुविधाजनक स्थिति हो सकती है। लिंग में खुजली किसी भी व्यक्ति के लिए पीड़ादायक और दैनिक कार्यों में हस्तक्षेप उत्पन्न कर सकती है। समान्यतः जननांग क्षेत्र या लिंग की खुजली के अधिकांश मामले सौम्य और उपचार योग्य होते हैं। लिंग की खुजली (Penis Itches) के कारणों के आधार पर, लिंग की खुजली के लक्षणों में भिन्नता देखने को मिल सकती है। अतः इसके सटीक कारणों का निदान समय पर किया जाना आवश्यक होता है। आज इस लेख के माध्यम से आप जानेंगे कि लिंग पर खुजली होने के कारण क्या है, लक्षण, इलाज और रोकथाम उपाय के साथ-साथ, लिंग की खुजली से राहत प्राप्त करने के सुझाव आदि के बारे में।

लिंग पर खुजली की समस्या लिंग की फोर स्किन, जननांगों और वृषण क्षेत्र (Testicular area) पर त्वचा पर उभार या लाल चकत्ते की उपस्थिति के साथ उत्पन्न हो सकती है। लिंग पर खुजली से संबंधित लक्षणों में छाले, जलन, दर्द, लालिमा, सूजन, स्कार टिशु (Scar tissue) इत्यादि शामिल हो सकते हैं। लिंग पर खुजली की समस्या अक्सर खराब स्वच्छता या संक्रमण के कारण उत्पन्न होती है।

किसी भी कारणवश लिंग पर खुजली उत्पन्न होने की समस्या इतनी गंभीर हो सकती है, कि यह पीड़ित व्यक्ति के दैनिक कार्यों और यौन संबंधों में बाधा उत्पन्न कर सकती है। लिंग (पेनिस) और लिंग के आसपास के क्षेत्र में उत्पन्न खुजली के अलावा अन्य लक्षणों का भी अनुभव किया जा सकता है। भिन्न भिन्न कारणों के आधार पर लक्षणों में भिन्नता देखी जा सकती है। अनेक प्रकार के यौन संचारित रोग पेनिस पर खुजली का कारण बन सकते हैं, जिनमें हर्पीस, गोनोरिया (सूजाक), ट्राइकोमोनिएसिस (trichomoniasis), स्केबीज (खाज), प्यूबिक लाइस (जघन जूँ) और क्लैमाइडिया (chlamydia) आदि शामिल हैं।

हालाँकि लिंग पर खुजली होने की स्थिति आपातकालीन या तत्काल चिकित्सकीय सहायता प्राप्त करने की स्थिति नहीं है, लेकिन यह स्थिति एक बीमारी का संकेत हो सकती है, तथा इसे दूसरों व्यक्तियों तक प्रेषित किया जा सकता है। यदि लम्बे समय तक पेनिस में खुजली से सम्बंधित लक्षण बने रहते हैं, तो पीड़ित व्यक्ति को तुरंत चिकित्सकीय सहायता लेनी चाहिए।

लिंग में खुजली अनेक प्रकार के लक्षणों के साथ उत्पन्न हो सकती है, तथा यह लक्षण कुछ अंतर्निहित बीमारी, विकार और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के आधार पर भिन्न-भिन्न हो सकते हैं। पेनाइल खुजली के साथ-साथ जननांग क्षेत्रों के आसपास में भी खुजली उत्पन्न हो सकती है। लिंग में खुजली और जलन के अलावा भी अन्य लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • पेशाब करने में कठिन या दर्दनाक पेशाब की समस्या उत्पन्न होना
  • लगातार पेशाब जाना
  • जननांग क्षेत्र में गांठ (Lump), फोड़ा या घाव उत्पन्न होना
  • संभोग के दौरान दर्द होना
  • दर्दनाक स्खलन की समस्या उत्पन्न होना
  • जननांग क्षेत्रों में लाल चकत्ते उत्पन्न होना
  • लिंग क्षेत्र में लालिमा, गर्मी या सूजन का अहसास होना
  • वृषण में दर्द
  • पेनिस स्किन का ड्राई होना, इत्यादि।

पेनिस की खुजली की अन्य स्थितियों में निम्न प्रकार के लक्षण रोग की गंभीरता को प्रगट कर सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • फ्लू के समान लक्षण जैसे- थकान, बुखार, गले में खराश, सिरदर्द, खांसी और दर्द
  • शरीर के अन्य भाग में त्वचा पर खुजली
  • लसीका ग्रंथियों (lymph nodes) में सूजन
  • निर्वहन (Discharge)
  • तेज बुखार
  • लाल चकत्ते उत्पन्न होना
  • जननांग क्षेत्र में सूजन या गर्मी का अहसास होना, इत्यादि।

यौन संचारित रोग पेनिस पर खुजली (Penis Itches) का एक सामान्य कारण हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त यह स्थिति एलर्जी, गैर-संचारित संक्रमण या अन्य कारणों से भी उत्पन्न हो सकती है। लिंग पर खुजली उत्पन्न होने के कारणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

लिंग में खुजली का कारण जेनिटल हर्पीस

जेनिटल हर्पीस, हर्पीस सिंप्लेक्स वायरस (HSV) के कारण होने वाला एकयौन संचारित संक्रमण है। यह संक्रमण जननांग क्षेत्र और लिंग में दर्द तथा खुजली आदि लक्षणों का कारण बनती है। हर्पीस वायरस कई सालों तक शरीर में निष्क्रिय रूप से जीवित रह सकता है, इसलिए हर्पीस सिंप्लेक्स वायरस से संक्रमित कुछ व्यक्तियों में कोई लक्षण प्रगट नहीं होते हैं। जेनिटल हर्पीस की स्थिति में लिंग में खुजली के साथ-साथ तरल पदार्थ से भरे फफोले छोटे-छोटे समूहों के रूप में उत्पन्न होते हैं।

पेनिस पर खुजली का कारण स्कैबीज

स्कैबीज एक यौन संचारित संक्रमण है, जिसे आम बोलचाल की भाषा में “खाज” के रूप में जाना जाता है। खाज या स्कैबीज़ की स्थिति में त्वचा पर लाल धब्बे, दाने और फफोले पैदा हो जाते हैं, जिससे त्वचा पर अत्यधिक या तीव्र खुजली और बेचैनी से सम्बंधित लक्षण उत्पन्न होते हैं। यह रोग संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से और असुरक्षित यौन सम्बन्ध बनाने से फैलता है।

लिंग की खुजली के कारण लाइकेन नाइटिडस

लाइकेन नाइटिडस त्वचा कोशिकाओं की सूजन से सम्बंधित स्थिति है, जो लिंग के साथ-साथ शरीर के विभिन्न हिस्सों पर त्वचा रंग के छोटे उभार या फफोलों के उत्पन्न होने का कारण बनता है। यह स्थिति लिंग में खुजली से सम्बंधित अन्य लक्षणों के भी उत्पन्न होने का कारण बन सकती है।

पेनिस में खुजली का कारण कैंडिडिआसिस (मेल थ्रश)

कैंडिडिआसिस की स्थिति को पुरुष खमीर संक्रमण (male yeast infection) के रूप में भी जाना जाता है। यह संक्रमण लिंग के सिर पर विकसित होता है। कैंडिडिआसिस की स्थिति लिंग की  फोरस्किन और लिंग के सिरे को प्रभावित करने के साथ-साथ खुजली, फोरस्किन के नीचे जलन, लालिमा, दाद और फोरस्किन के नीचे पनीर के समान (cottage cheese-like) पदार्थ का डिस्चार्ज आदि लक्षणों के उत्पन्न होने का कारण बनती है।

लिंग पर खुजली का कारण जननांग मस्सा

जेनिटल वार्ट्स एक यौन संचारित संक्रामक रोग है, जो ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी) के कारण होता है। जननांग मस्से मनुष्यों के जननांग क्षेत्रों में मांस के रंग और फूलगोभी के समान छोटे-छोटे आकर के दिखाई देते हैं। यह मस्से खुजली और कभी-कभी संभोग के दौरान खून के बहाव का कारण बन सकते हैं।

पेनिस खुजली के कारण लिचेन प्लेनस और सोरायसिस

लाइकेन प्लेनस एक सूजन सम्बन्धी स्थिति है, जो लिंग, बाल, नाखून और त्वचा को प्रभावित करती है। यह स्थिति श्लेष्म झिल्ली में सूजन और जलन पैदा करने के साथ-साथ खुजली, दर्दनाक घाव या फफोले का कारण बन सकती है। इसके अतिरिक्त सोरायसिस त्वचा सम्बन्धी स्थिति भी लिंग को प्रभावित कर सकती है। सोरायसिस की स्थिति में त्वचा की कोशिकाएं बहुत तीव्रता के साथ विकसित होती हैं, और त्वचा की सतह पर संचित होकर खुजली, सूजन, पपड़ीदार त्वचा के साथ-साथ लाल धब्बे आदि के उत्पन्न होने का कारण बनती हैं।

पेनिस में खुजली का कारण यूरेथ्राइटिस

जब बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण मूत्रमार्ग की सूजन और जलन की स्थिति का कारण बनता है, तब इसे यूरेथ्राइटिस कहा जाता है। मूत्रमार्गशोथ (यूरेथ्राइटिस) के अन्य लक्षणों में बार-बार पेशाब जाना, पेशाब करने में कठिनाई महसूस होना और वीर्य में खून आना इत्यादि शामिल है।

लिंग में खुजली का कारण बनता है बैलेनाइटिस

बैलेनाइटिस लिंग की ग्रंथियों या फोरस्किन की सूजन से सम्बंधित स्थित है। यह स्थिति लिंग में खुजली, लालिमा और सूजन के साथ-साथ जननांग क्षेत्रों में दर्द, लिंग की स्किन टाइट होना इत्यादि, लक्षणों के उत्पन्न होने का कारण बनती है।

कांटेक्ट डर्मेटाइटिस लिंग में खुजली का कारण

कांटेक्ट डर्मेटाइटिस त्वचा पर लाल और खुजली वाले चकत्ते उत्पन्न होने की स्थिति है, यह स्थिति किसी पदार्थ के सीधे संपर्क में आने के कारण एलर्जी के परिणामस्वरूप उत्पन्न होती है। यह लिंग को प्रभावित कर सकती है। कांटेक्ट डर्मेटाइटिस का कारण बनने वाले पदार्थों में साबुन, सुगंधित पदार्थ, स्प्रे और कपड़े संबंधी एलर्जी आदि शामिल हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu