निप्पल में दर्द के 7 बड़े कारण और घरेलू इलाज

महिलाओं को स्तन के निप्पल में दर्द महसूस हता है। यह दर्द आमतौर पर कई कारणों से होता है, जैसे कि स्तन पर अधिक रगड़, हार्मोन का असंतुलन, सूजन की समस्या, पर्यावरणीय कारक, एलर्जी, स्किन से जुड़ी समस्या, इंफेक्शन, खुजली, सेसिटिविटी, यौन क्रिया, प्रेगनेंसी और ब्रेस्टफीडिंग आदि। इस लेख में आप जानेगे निप्पल में दर्द का कारण (Causes of Nipple pain ) और निप्पल में दर्द का घरेलू इलाज के बारें में।

निप्पल कैंसर होने की संभावना बहुत कम होती है लेकिन यदि दोनों स्तनों (breast) के निप्पल में लंबे समय तक दर्द बना रहे तो यह ब्रेस्ट कैंसर का लक्षण हो सकता है और यह सामान्यरूप से एक स्तन को प्रभावित करता है।

अगर महिला प्रेगनेंट नहीं है इसके बावजूद निप्पल से तरल या द्रव (fluid) निकलता है और तेज दर्द होता है तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। निप्पल से दूधिया, सफेद, पीला, हरा और खूनी तरल पदार्थ निकल सकता है। इसके अलावा निप्पल में खुजली, पीड़ा, सूजन और उसके आकार में भी बदलाव दिखता है।

निप्पल में दर्द होना कुछ मामलों में बहुत सामान्य माना जाता है लेकिन अगर लंबे समय तक दर्द बना रहे तो इसके पीछे कोई बड़ी वजह जरूर हो सकती है। आइये जानते हैं कि आखिर निप्पल में दर्द का कारण क्या होता है।

1) प्रेगनेंसी के कारण निप्पल में दर्द

प्रेगनेंसी के दौरान ब्रेस्ट और निप्पल में दर्द होना आम शिकायत है और आमतौर पर पूरी तरह सामान्य होता है। स्तन की कोशिकाएं हार्मोन के प्रति अधिक संवेदनशील होती हैं इसलिए जब जब प्रेगनेंसी हार्मोन शरीर में तेजी से बनना शुरू होने लगता है तो रक्त की मात्रा भी बढ़ जाती है और यह स्तन को अधिक भारी और फुला हुआ बना देती है। यह महीनों तक वैसे ही बना रहता है और निप्पल के किनारे के क्षेत्र अधिक गहरे रंग (dark colour) के हो जाता है। इस दशा में निप्पल में दर्द होना भी स्वाभाविक होता है।

2) निप्पल में दर्द का कारण यौन संबंध

शारीरिक संबंध बनाने के दौरान स्तन में अधिक रगड़ या दबाव के कारण निप्पल में दर्द होने लगता है। आमतौर पर यह दर्द अस्थायी होता है और ठीक भी हो जाता है। अगर अधिक समय तक यह दर्द बना रहता है तो स्तन पर जेल या मॉश्चराइजर लगाकर एवं एंटीसेप्टिक की सहायता से ठीक किया जा सकता है।

3) हार्मोन में परिवर्तन से निप्पल में दर्द

महिलाओं के हर महीने के मासिक चक्र के कारण निप्पल में दर्द या परेशानी का अनुभव होना सामान्य बात है। इस दौरान निप्पल में दर्द एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रॉन के स्तर में परिवर्तन के कारण होता है। पीरियड से पहले ब्रेस्ट एवं निप्पल अधिक मुलायम (tenderness) हो जाता है, यह सामान्य होता है और चिंता करने की जरूरत नहीं होती है। लेकिन यदि निप्पल में दर्द पीरिडय खत्म होने के बाद भी लंबे समय तक बना है तो हार्मोन टेस्ट करवाकर दवा लेनी चाहिए

4) स्तन में सूजन निप्पल में दर्द का कारण 

महिलाओं के Breast स्तन की नलिकाओं (breast ducts) में सूजन के कारण आमतौर पर स्तनपान के दौरान स्तन से पर्याप्त दूध नहीं निकल पाता है। सूजन तेजी से बढ़ने के कारण स्तन के लाल या गहरे भाग में दर्द शुरू हो जाता है, और स्तन का निप्पल छूने में अधिक गर्म लगता है। हालांकि स्तन के निप्पल में लालिना महज इंफेक्शन का ही संकेत नहीं है।

5) स्तन से पस निकलने से निप्पल में हो सकता है दर्द

बच्‍चों को स्‍नपान कराने के दौरान या Breast स्तन से पस निकलने के कारण भी निप्पल में दर्द होता है। स्तन में सूजन होने के कारण स्तन से पस निकलता है और बच्चे को स्तनपान कराने वाली महिलाएं ही इससे अधिक प्रभावित होती है। दर्द के साथ निप्पल से मवाद (pus) निकलने के कारण निप्पल में चुभन भी होती है। यह आमतौर पर बैक्टीरिया के कारण होता है जो ब्रेस्ट टिशू में प्रवेश कर जाता है और स्तन नलिका को ब्लॉक कर देता है। इसके कारण निप्पल में दर्द होने लगता है। निप्पल में सूजन, लालिमा और अधिक गर्म होना इसके मुख्य लक्षण होते हैं।

6) निप्पल में दर्द का कारण एक्जिमा

स्तनपान के दौरान कभी-कभी ब्रेस्ट में एक्जिमा हो जाता है, हालांकि यह बहुत दुर्लभ स्थिति में ही होता है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं में से करीब आधी संख्या में महिलाएं एक्जिमा से ग्रसित होती हैं, इसे एटोपिक एक्जिमा (atopic eczema) कहते हैं। इसके कारण निप्पल में तेज जलन होती है। एलर्जिक रिएक्शन के कारण भी एक्जिमा हो जाता है। निप्पल में सूखापन, पपड़ी निकलना और जलन होना निप्पल में एक्जिमा होने के लक्षण हैं।

7) कैंडिडियासिस के कारण निप्पल में दर्द 

स्तनपान कराते समय निप्पल में दर्द होना कैंडिडियासिस(Candidiasis) के लक्षण हैं। कुछ हफ्तों में ही कैंडिडियासिस के लक्षण तेजी से बढ़ जाते हैं और निप्पल में दर्द के साथ दोनों स्तनों में जलन और चुभन होने लगती है। स्तनपान के एक घंटे बाद तक दर्द बना रहता है और निप्पल में दर्द के साथ ही मृत त्वचा जैसी पपड़ी निकलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu