Medical Tests Every Woman Needs After 30s-Adult sex toys India

Medical Tests Every Woman Needs After 30s-Adult sex toys India महिलाओं के स्वस्थ रहना उतना भी मुश्किल काम नहीं है जितना आप सोचतीं हैं, अक्‍सर ऐसा देखा जाता है महिलाएं अपने स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति उतनी सचेत नहीं रहती हैं। जितने घर के बाकी सदस्य रहते हैं लेकिन घर के बाकी सदस्‍यों की तरह ही उन्‍हें भी अपनी हेल्थ की देखभाल करनी चाहिए। 30 की उम्र के बाद महिलाओं में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का खतरा बढ़ने लगता है। महिलाओं की बढ़ती उम्र के साथ वजन बढ़ना, हाई कोलेस्ट्रॉल, ब्रेस्ट कैंसर, सर्वाइकल कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के होने का खतरा बढ़ने लगता है। ऐसे में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक गंभीर होना चाहिए। यह कुछ प्रयास और सतर्कता से आसानी से किया जा सकता है। उस प्रयास का एक हिस्सा है उपयुक्त स्क्रीनिंग परीक्षण और मेडिकल टेस्‍ट, जिसका उपयोग महिलाओं में संभावित स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाने के लिए किया जाता है जब वे अभी भी उपचार योग्य होते हैं।

आज के समय में 30 की उम्र के बाद महिलाओं के लिए मेडिकल चेकअप के लिए डॉक्टर के पास जाना सब कामों से सबसे आखिरी काम हो सकता है, लेकिन नियमित जांच से आपकी सेहत और बाद में आपकी जान भी बच सकती है। यहां हम आपको 10 ऐसे मेडिकल टेस्‍ट के बारे में बता रहे हैं जो महिलाओं को 30 की उम्र के बाद एक निश्चित समय पर जरूर करवाने चाहिए।

30 की उम्र पार करने के बाद, आपका डॉक्टर उन समस्याओं की तलाश के लिए कई सरल परीक्षण कर सकता है या कराने की सलाह दे सकता है जो आपके स्वास्थ्य को ख़राब कर सकते हैं। यहां उन मुख्य परीक्षणों की जानकारी दी गई है जिन्हें आपको 30 की उम्र के बाद जरूर कराना चाहिए। (ध्यान दें कि आपका डॉक्टर आपकी व्यक्तिगत स्वास्थ्य प्रोफ़ाइल के आधार पर अतिरिक्त मेडिकल टेस्‍ट कराने की सिफारिश कर सकता है।)

जैसा कि आप 30 की उम्र को पार कर आंगें बढ़ती हैं, तो आप कुछ साल पहले की तुलना में बहुत अलग महसूस नहीं करती हैं, लेकिन आपका शरीर अंदर से धीरे-धीरे बदल रहा होता है। ये बदलाव बूढ़े होने का एक सामान्य हिस्सा हैं।

Medical Tests Every Woman Needs After 30s-

प्रत्येक महिला अलग होती है और इसलिए उसके स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं भी अलग-अलग हो सकतीं हैं। जिसमे, आपके पास प्रजनन संबंधी समस्याएं हो सकतीं हैं और जीवनशैली से संबंधित तनाव बढ़ता है। 30 के दशक में, ज्यादातर महिलाओं के लिए त्वचा झुर्रियों के साथ थोड़ी सुस्त हो जाती है और वजन बढ़ने लगता है। इसके अलावा, हड्डी का कमजोर होना 30 के बाद शुरू हो जाता है और बाद में हड्डी के पतले होने का कारण बन सकता है, मांसपेशियां अपना ‘आकार’ खोना शुरू कर देती हैं, जिससे फिटनेस, ताकत और संतुलन प्रभावित होता है।

यौन इतिहास न होने के बावजूद, 21 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं को हर तीन साल में एक पैप स्मीयर टेस्ट कराना चाहिए। पैप स्मीयर गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के लक्षणों की जाँच करता है। श्रोणि परीक्षा से दस मिनट की हल्की असुविधा आपको कैंसर और अन्य यौन जनित बीमारियों से बचाने में बड़ा लाभांश देती है जो आंगे चलकर बांझपन का कारण बन सकती हैं। पैप परीक्षण 21 साल की उम्र में शुरू होना चाहिए। 21 से 65 वर्ष की महिलाओं के लिए हर तीन साल में नियमित जांच की सिफारिश की जाती है। 30 से 65 वर्ष की महिलाओं के लिए, जिनके पास एक सामान्य एचपीवी परीक्षण के साथ एक सामान्य पैप परीक्षण होता है, हर पांच साल में स्क्रीनिंग की जा सकती है। एक नकारात्मक एचपीवी परीक्षण के साथ वृद्ध महिलाओं में भी यह अंतराल बढ़ाया जा सकता है।

महिलाओं को व्यक्तिगत जोखिम वाले कारकों और उम्र की सिफारिशों के आधार पर यौन संचारित रोगों (एसटीडी) के लिए भी यह परीक्षण किया जाना चाहिए। यौन रूप से सक्रिय महिलाओं की उम्र 24 साल और उससे कम होने पर भी गोनोरिया, क्लैमाइडिया और एचआईवी स्क्रीनिंग की आवश्यकता होती है।

तेजी से बदलती जीवनशैली के कारण, स्तन कैंसर की घटना दिन पर दिन बढ़ रही है। महिलाओं को स्तन कैंसर के लिए 30 की उम्र के बाद नियमित रूप से जांच करवाना महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर इसका जल्दी पता चल जाए तो यह लगभग ठीक हो जाता है। इसके आलावा स्तन कैंसर का पता कई साधारण स्क्रीनिंग परीक्षणों के माध्यम से लगाया जा सकता है जो सेल्फ ब्रेस्ट एग्जाम कहे जाता हैं।

Medical Tests Every Woman Needs After 30s-

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी 30 की उम्र के बाद साल में एक बार किया जाने वाला ब्रेस्ट का टेस्ट कराने की सलाह देती है। स्तन कैंसर स्क्रीनिंग में नैदानिक परीक्षा और स्क्रीनिंग मैमोग्राम से होती हैं। यदि आपके परिवार के किसी सदस्य को स्तन कैंसर हुआ है, तो आपका डॉक्टर आपको यह देखने के लिए मैमोग्राम स्क्रीनिंग करेगा कि क्या आपको अधिक खतरनाक प्रकार के स्तन कैंसर का खतरा है या नहीं, जो कि कुछ जीन (BRCA1 या BRCA 2) से जुड़े हैं। यदि आप जोखिम में हैं, तो आपका डॉक्टर आनुवांशिक परामर्श या बीआरसीए परीक्षण की सिफारिश कर सकता है। महिलाओं को मैमोग्राम टेस्ट 30 की उम्र के बाद और 45 साल की उम्र तक हर साल कराने की सलाह दी जाती है।

यह अनुशंसा की जाती है कि 30 साल की उम्र में महिलाओं को हर साल एक बार अपने रक्तचाप की जांच करवानी चाहिए क्योंकि उच्च रक्तचाप के परिणामस्वरूप हृदय, गुर्दे और मस्तिष्क की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। भोजन की आदतों, जीवन शैली और दवाओं में हल्का बदलाव आपके बीपी को आसानी से काबू में रख सकता है।

यदि आपका ब्लडप्रेशर 140/90 से अधिक है तो यह उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन के नाम से जाना  जाता है। क्योंकि उच्च रक्तचाप अन्य जटिलताओं को जन्म दे सकता है, अगर यह 120/80 या उससे कम है तो इसे हर दो साल में जांचना चाहिए। यदि यह अधिक है, तो आपका डॉक्टर इसे अधिक बार जांचने की सलाह दे सकता है। यदि आपको उच्च रक्तचाप का पता चलता है, तो आपको मधुमेह के लिए भी जांच करानी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Main Menu